Tuesday, 20 June 2017

चश्मों के बाँध

देखकर गैर के काले मनकों में उसकी नथ का सफेद मोती
आँखों की उमड़ती नदी पे हमने चश्मों के काले बाँध रख लिए

-तुषारापात®

परिक्रमा

युक्ति भक्ति और शक्ति में
नहीं रहा द्वंद्व
कलियुग में कृतयुग की
कथा का संबंध?
शक्ति से भक्ति का
रच सकता जो प्रपंच
चाटुकारिता की युक्ति से
तोड़े वो सब बन्ध
आदर्शों के वचनों को
कहने वाला तू
एकाकी कर दिया जाएगा
आकाश की ओर
क्या ताकता?
वह पहले ही से
कथा वाचता
कर रमा-रमापति की परिक्रमा
उमा-नंदन प्रथम पूजन पाते हैं
पूरी पृथ्वी मापित करने वाले
कार्तिकेय श्रापित से रह जाते हैं।

-तुषारापात®

Monday, 12 June 2017

ऑफिसियल मेल


"कुछ कहना होता तो व्हाट्सएप्प नहीं एक मेल आता...कंपनी जॉब इंटरव्यू के रिजल्ट्स व्हाट्सएप्प पे नहीं बताती" उसका रूखा सा रिप्लाई आया

"सुमैरा..मुझे पता नहीं था कि तुम वहाँ की बॉस.." मैं अधूरा ही मैसेज भेज सका

"अब व्हाट्सएप्प मत करना.." उसने रिप्लाई किया और मुझे ब्लॉक कर दिया

अगले दिन अजीब सा ऑफिसियल मेल आया...रिजेक्टेड!.. रिजेक्टेड!... रिजेक्टेड!

मुझे सुमैरा को सात साल पहले कहे अपने शब्द याद आ गए "तलाक!..तलाक!..तलाक!..।"

-तुषारापात®

Monday, 5 June 2017

खुले खत का लिफाफा

नज़र की धार से
खुले ख़त का लिफाफा
गलत ही सही
काट तो दो कभी
सही के दो निशान
कब से यहाँ
नीले होने को तरसते हैं

#√√#तुषारापात®