Friday, 19 May 2017

गुलाबी

वो इतने हैं गुलाबी
के कैलेंडर ज़रा छू लें
तो हर तारीख़ इतवार हो जाए

और जिस कागज़ पे
वो अपने कर दें दस्तख़त
वही नोट -ए- दोहज़ार हो जाए

-तुषारापात®