Wednesday, 12 August 2015

लोकतंत्र

लोकतंत्र: जहाँ 'अंगूठे के निशान' के नीचे कई 'हस्ताक्षर' दबे रहते है

-तुषारापात®™

No comments:

Post a Comment