Thursday, 24 September 2015

सच्चा लेखक

दो लफ्ज़ लिखने को सौ लोगों को पढता हूँ
सच्चे किस्सों से झूठी कहानियां गढ़ता हूँ

-तुषारापात®™

No comments:

Post a Comment