Sunday, 6 September 2015

मसले


नाजुक है जरा ध्यान से :-

"
यूँ बातों की एक फूँक में उड़ जाते थे
ठन्डे गरम,अपने सारे मसले
अब लफ़्ज़ों की हवा से ख़ामोशी की आग बढ़ जाती है "

-तुषारापात®™

No comments:

Post a Comment