Wednesday, 2 September 2015

चार आने वाले याराने

नोटों से भरी जेब ने खोटों से खूब करवायी दोस्ती
जिंदगी फिर से मेरे वो चार आने वाले याराने ला दे

-तुषारापात®™


No comments:

Post a Comment